व्यावसायिक शिक्षा को बढावा देना और इसको सही प्रकार से चलाना केन्द्र व राज्य दोनो की सामूहिक ज़िम्मेदारी है । राष्ट्रीय स्तर पर यह कार्य D.G.E.T. द्वारा किया जाता है । D.G.E.T. द्वारा ही सभी प्रकार के नियम , स्टैन्डर्ड बनाना , परीक्षा आयोजन , प्रमाण पत्र ज़ारी करना इत्यादि का कार्य किया जाता है । D.G.E.T. की सबसे लोकप्रिय क्राफ्ट्स्मैन ट्रेनिंग स्कीम को राज्य सरकारो द्वारा राजकीय आई. टी. आई. व निजी आई. टी. आई. की सहायता से चलाया जा रहा है ।

 राजस्थान में निजी आई. टी. आई. की संख्या  1488 व राजकीय आई. टी. आई. 134  हो गयी है ।  आई. टी. आई. में प्रवेश हेतु न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता आठ्वीं कक्षा उतीर्ण से बारहवी उतीर्ण है । प्रशिक्षण अवधि छह माह से तीन वर्ष तक होती है । निर्धारित अवधि का प्रशिक्षण पूरा करने के बाद  N.C.V.T. द्वारा सेमेस्टेर् परीक्षा का आयोजन किया जाता है । सफलता पूर्वक सभी परीक्षा उतीर्ण करने पर N.C.V.T. द्वारा प्रमाण पत्र ज़ारी किया जाता है । ये प्रमाण पत्र राज्य व केन्द्र के अधीन पदों व सेवाओं के लिये मान्यता प्राप्त है । द्क्षता का स्तर व शिक्षा के द्वारा ही यह तय होता है कि हमारे कामगार किस प्रकार बदलते औद्योगिक वातावरण के मुताबिक अपने आप को ढाल पाते हैं । पारम्परिक भारतीय कामगार के पास बदलते वातावरण के मुताबिक दक्षता का अभाव पाया गया है । इस कमी को दूर करने के लिये ही आई. टी. आई. की स्थापना की गयी है । राजस्थान में विगत कुछ सालों में बहुत तेज़ी से सर्विस् सेक्टर व इन्डस्ट्री का विकास हुआ है । कामगारों की मांग बहुत तेज़ी से बढ रही है व आई. टी. आई. ही इस मांग को पूरा कर सकती है ।

BACK